Top 10+ Matlabi Paise Ki Duniya Hai Shayari (September 2022)

यहाँ पर मतलबी पैसे की दुनिया है शायरी (Matlabi Paise Ki Duniya Hai Shayari) लिखी है | हम सभी को पता है कि आज की दुनिया कितनी मतलबी हो गयी है | सभी लोग पैसा-पैसा कर रहे है |

जिन लोगो के पास ज्यादा पैसा हो गया वह दूसरे लोगो को कुछ नहीं समझता है | इसलिए इसे मतलबी पैसे की दुनिया कहते है |

यदि आपके साथ कोई ऐसा व्यवहार करे तो आप इस मतलबी पैसे की दुनिया है पर शायरी उसे भेज सकते है | अपने व्हाट्सएप पर स्टेटस लगा सकते है | उस व्यक्ति हो यह एहसास दिला सकते है कि आज की दुनिया वास्तव में मतलबी पैसे की दुनिया है |

टॉप 10+ मतलबी पैसे की दुनिया है शायरी की इस लिस्ट में कई सारी ऐसी-ऐसी शायरियाँ लिखी गयी है जिसमे लोगो के पास पैसा अधिक आ जाने पर उनके व्यवहार में होने वाला परिवर्तन साफ झलकता है |

मतलबी पैसे की दुनिया है शायरी (Matlabi Paise Ki Duniya Hai Shayari)

मतलबी दुनियाँ पैसे की,
हमने पैसों से इन्हें आज़माया है,
सब साथ छोड़ गए तबसे,
जब से खुद को गरीब बताया है |

अपने मतलब के लिये लोग अक्सर बदल जाते हैं,
वे अपनो को पीछे छोड़ कर आगे निकल जाते हैं,
कोई मरता भी हो तो उनकी बला से,
वो तो मरे पर कदम रखकर आगे बढ़ जाते हैं।

पैसे के पीछे भागते हैं लोग,
सच्चे प्यार को ठुकरा देते हैं,
जब तक मतलब होता है आपसे,
तब तक ही यह यार रहते हैं |

तेरे साथ का मतलब जो भी हो,
तेरे बाद का मतलब कुछ भी नहीं।

देख लेना एक दिन अहसास होगा तुम्हे,
के था कोई जो बिना मतलब चाहता था।

मतलबी बनता हूँ तो ज़मीर देता है ताने,
मुख़लिस होता हूँ तो जमाना जीने नहीं देता।

मतलब भरी दुनिया में अपनापन सिर्फ एक दिखावा है,
मैं चैलेंज करता हूं सबको धोका मिलेगा ये मेरा दावा है |

Matlabi Paise Ki Duniya Hai Shayari

जब जेब मै पैसा होता है ना,
तो दुनिया सलाम करती है |

जब तक पैसा मेरे पास रहा,
तब तक मैं सबका बाप रहा,
जब हो गयी जैब खाली तो,
तू कौन है यह सबने कहा |

ना जाने लोग ऐसा क्यों करते हैं,
मतलब निकलते ही नं. ब्लॉक करतें हैं।

पैसा बोलता नहीं है,
पर जब ये पास होता है ना तो बहूत कुछ बोलता है।

अपना वक्त पैसा कामने में लगा दो,
दुनिया अपने आप पीछे आ जाएंगी।

दुनिया पैसे वालो को अमीर बोलती है,
और जिसके पास नहीं है उसको गरीब कहती है।

खोखली बन जाती है ज़िदंगी,
ना जाने क्यूँ मतलब के लिए मेहरबान होते हैँ लोग।

वो ज़माना अब कहां जो अहले दिल को रास था,
अब तो मतलब के लिए नामे वफ़ा हैं लोग।

इतनी मतलबी हो गई हैं मेरी आँखें,
कि इसे तेरे दीदार के बिना दुनिया अच्छी नहीं लगती।

मतलबी पैसे की दुनिया है शायरी

दुनिया सबसे ज्यादा इज्जत पैसा वालो की करती है।

पैसा बिस्तर दे सकता हैं पर नींद नही,
पैसा भोजन दे सकता हैं पर भूख नही,
पैसा अच्छे कपडे दे सकता हैं पर सुन्दरता नही,
पैसा ऐशो आराम के साधन दे सकता हैं सुकून नही |

पैसा साथ तो नहीं जाता पर यही,
पर दुनिया में नाम जरूर बनाता है |

उन्हे मेरा इश्क़ मतलबी शायद इसलिये भी लगा क्योंकि माथा जो चूमा हमने,
काश होंठ चूम लेते तो इश्क़ मुक़म्मल् हो जाता उनकी नज़रों में |

सेलफिश मतलबी पैसे की दुनिया है शायरी

मतलबी दुनियाँ पैसे देख कर,
आपके आगे पीछे चलती है,
गर जैब खाली हो आपकी तो,
आपसे दूरी बना कर रखती है |

शिद्दत के इश्क मैं खुदगर्ज होना भी जरूरी है,
हो अगर यार मैं वफा तो मतलबी होना भी जरूरी है।

मतलबी दुनिया मे ,बेमतलब सा था मैं,
कलयुग के जमाने मे राधा ढूंढने निकला था मैं।

यूँ असर डाला है मतलबी लोगों ने दुनिया पर, 
हाल भी पूछो तो लोग समझते हैं कोई काम होगा।

मुझे रिश्तो की लंबी कतारोँ से मतलब नही,
कोई दिल से हो मेरा तो एक शख्स ही काफी है।

निभा दिया उसने भी दस्तूर दुनिया का तो गिला कैसा,
पहचानता कौन है यहां मतलब निकल जाने के बाद।

खुद को मतलबी पैसे की दुनियां से संभाल कर रखो,
यह मतलब निकाल, कंगाल करके तुम्हें छोड़ जाएंगे |

Selfish matlabi paise ki duniya hai shayari

जिनके पास पैसे चार उनके दोस्त भी बनते हैं हजार,
जिनके पास कुछ नही उन्हें पूछते भी नही उनके यार |

जब तक मतलब होता है शहद से होते है लोग,
और वैसे तो जहर से भी जहरीले होते है लोग।

वो मतलब से मिल रहे थे,
हमनें मतलब ही ख़त्म कर दिया।

कितना अच्छा होता तुम जो मतलबी होते,
और तुम्हें सिर्फ मुझसे मतलब होता।

कभी मतलब के लिए, तो कभी बस दिल्लगी के लिए,
हर कोई मोहब्बत ढूँढ़ रहा है यहाँ अपनी ज़िन्दगी के लिए।

लम्बी बातों से मुझे कोई मतलब नहीं,
मुझे तो आपका अच्छा जी कहना भी कमाल लगता हैं।

पैसा इंसान को ऊपर ले जा सकता हैं
पर इंसान पैसा ऊपर नही ले जा सकता हैं |

टूटे पत्तों से पूछिए टूट जानें का मतलब,
ये दो दिन की दिखावे वाली मोहब्ब्त के लिए नाटक क्यों करना।

जो दूर से दीखता है असल में वैसा नही होता,
जो चेहरे पर झलकता है अंदर से वैसा नही होता,
हर चीज़ की अहमियत मत आकियें पैसे से,
दुनिया में हर चीज़ की कीमत पैसा नही होता |

यह भी पढे- हर्ट टचिंग ट्रू लव हसबेंड वाइफ़ शायरी

मतलबी दुनिया शायरी इन हिन्दी

जब तक पैसा तेरे पास है,
तब तक मतलबी लोगों का तू बाप है।

मतलबी पैसे की दुनिया है सबको समझा रहा हूँ,
मुझे पता चल गया इसलिए आपको भी बता रहा हूं |

मरता नही यहा कोई किसी के लिए,
हर रिश्ते निभाए जाते है यहां मतलब के लिए।

हमें तो राह तकने से मतलब हैं,
मसला तुम्हारा है तुम आओ या ना आओ।

वो लौट आए थे अपने मतलब से,
हमे लगा हमारी दुआओ मे दम है।

मुझे जिंदगी से अब कोई मतलब नहीं,
ए मौत कम से कम तू तो गले लगा ले।

जरूरी नहीं कि हर ताल्लुक का मतलब मोहब्बत हो,
कुछ रिश्ते मोहब्बत से ऊंचा मुकाम रखते है।

Matlabi Paise Ki Duniya Hai Shayari in Hindi

कागज़ के नोट की चाहत में बहुत कुछ छूट जाता हैं,
न जाने सब्र का धागा कहाँ पर टूट जाता हैं |

कोई दौलत पर नाज करते हैं,
कोई शोहरत पर नाज करते हैं,
जिसके साथ आप जैसा दोस्त हो,
वो अपनी किस्मत पर नाज करते हैं |

देखो ना किरदार मेरा कितना दागदार है,
मेरे इश्क का मतलब मेरी जात से जोड़ा गया।

जिसको भी चाहा दिल से वह मतलबी हो गया,
जब दिल भर गया उसका तो छोड़ के चला गया।

थोड़ा मतलबी भी खुद को होना चाहिए,
कभी अपने लिए भी सोचना चाहिए।

बस इसी बात ने उन्हेँ शक मे डाल दिया, 
उफ्फ इतनी मोहब्बत कोई मतलब तो होगा।

मिली थी जिन्दगी किसी के “काम” आने के लिए,
पर वक्त बीत रहा है क़ागज के टुकड़े कमाने के लिए |

यह भी पढे- हर्ट टचिंग बेस्ट फ्रेंड शायरी

Matlabi Duniya hai Shayari

हम दिल लगाते हैं जिससे,
उस पर जान भी देते हैं वार,
पर सब मतलबी धोखेबाज,
पैसा देख करते हैं झूठा प्यार |

करवटें उलझती रहीं मतलब,
तुम्हारा ख़्वाब मामूली न था।

एक बार दिल क्या टूटा सभी मतलबी लगने लगें,
मतलब से मिलने वाले मिलने का मतलब क्या जाने।

मैं वहां तक अच्छा हूं,
जहां तक आपके मतलब का हूं।

रहम कर ख़ुदा इस मतलबी दुनियाँ पर,
अब इतनी भी सज़ा न दे की मौत आ जाए।

सब ने पैसा तो बहुत कमा लिया
पर उस पैसे का क्या मोल हैं,
अपनों का प्यार और अपनों से रिश्ता
इन पैसो से कहीं अनमोल हैं |

Matlabi Duniya hai Shayari

इतना तो पूछा जा सकता है ना कैसे हो,
इससे क्या मतलब तुम अब किसके हो।

मतलबी तो लोग होते है जनाब,
हम तो शायर है लोगो के चेहरे पे मुस्कान लाते है |

मै मतलबी नही जो चाहने वालो को धोखा दू,
बस मुझे समझना हर किसी के बस की बात नही है।

पागल हैं ये दीवाने…ये जानते ही नही,
सारी बुराईयों की जड़ ये पैसा हैं,
पैसा कमाने से ‘हरि’ को ऐतराज नही,
गर कमाया पैसा नाजायज नही |

आपके पास पैसा है,
तो लोग पूछते है… कैसा हैं?
छोड़ो इन मतलबी लोगो को,
इनका स्वभाव ही ऐसा हैं |

बिना मतलब के बात करे मुझसे,
ऐसे एक शख्स की तलाश में हूं।

मतलबी दुनिया है शायरी

मतलबी दुनिया में बेमतलब सा था मैं,
रिया के ज़माने में राधा ढूँढने निकला था मैं।

एक दूसरे से सभी है अजनबी,
जुडते यहाँ सिर्फ है मतलबी,
अजनबी अपने सफर में मशरूफ है,
मुतआरिफ हि होतें है फरेबी।

मैं तो इश्क मैं मतलबी था,
मुझे तो बस मेरे यार से मतलब था।

पैसो की मतलबी दुनिया शायरी

कभी पैसा देख कर किसी से दोस्ती ना करो,
जिससे दोस्ती करो हर हालात में उसके साथ रहो |

अंधा प्यार तो एक ज़माने में हुआ करता था,
आजकल तो प्यार पैसा देख कर होता है।

वो समझा ही नहीं कभी मेरे लफ्ज़ों की गहराईयों को,
मैंने हर वो लफ्ज़ कह दिया जिसका मतलब मोहब्बत था।

इतनी दिलक़श आँखें होने का ये मतलब तो नही,
कि जिसे देखो उसे दिवाना कर दो।

आज की मतलबी दुनिया में,
अकेला चलना सीखना बहुत जरूरी है,
पता नहीं कौन आपको कब छोड़ जाये |

पैसा तो सब को मिल ही जाता हैं,
मगर सच्चा प्यार सब को नही मिलता हैं |

मुझे यारों के लम्बी कतारों से मतलब नही दोस्त,
अगर तुम दिल से मुख्लिस हो तो बस एक तुम ही काफी हो।

क़दर कर लो उनकी जो तुमसे बिना मतलब की चाहत करते हैं,
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम और तकलीफ देने वाले ज़्यादा होते है।

Peso ki matlabi duniya shayari

जब जेब में रूपये हो तो,
दुनिया आपको औकात देखती हैं,
और जब जेब में रूपये न हो तो,
दुनिया अपनी औकात दिखाती हैं |

इतनी दिलक़श आँखें होने का ये मतलब तो नही,
कि जिसे देखो उसे दिवाना कर दो।

जितनी जरूरत उतना रिश्ता है यहां,
बिन मतलब कौन फरिश्ता है यहां।

मतलबी हैं लोग तो हमें क्या,
फ़र्क तो हमें सिर्फ़ दो चार अपनों से पड़ता है।

कुछ तो मतलब रहा होगा मेरी जिंदगी में आनें का,
बस यूँ ही कोई ज़िन्दगी में छोड़ जानें तो नहीं आता।

दुनिया की बातों का हम ऐतबार नहीं करते हैं,
जमीर का सौदा करके हम प्यार नहीं करते।

जो बात करते थे कभी खुद मलहम लगाने की,
आज वो खुद ही घाव दे गये हैं।

अपने से बस उतना ही रूठो की,
अपनी बात और सामने वाले का इज्ज़त दोनों बरक़रार रहे।

दोस्ती करने के उनके अंदाज बहुत है,
मगर छिपे इसमें मतलब के राज़ बहुत है।

खर्च कर दिया खुद को,
कुछ मतलबी लोगो पर,
सिर्फ मतलब के लिए।

अंतिम दो लाइन

मैंने यहाँ पर मतलबी पैसे की दुनिया है शायरी (Matlabi Paise ki Duniya Hai Shayari) लिखी है |

मतलबी दुनिया है शायरियाँ आपको जरूर पसंद आने वाली है |

यदि आपको की इस पेसो की मतलबी दुनिया की शायरी पता है तो आप कमेंट सेक्शन में लिख सकते है | उसे मेरी टीम इस पोस्ट में जोड़ देगी |

Leave a Comment